top of page

कार्रवाई में पकड़ा गया: कक्षा के समय में व्हाट्सएप का उपयोग करने के लिए कर्मचारी को दंडित किया गया

Raj Shiksha

3 min read

Jul 8

9

1

0

कार्रवाई में पकड़ा गया: कक्षा के समय में व्हाट्सएप का उपयोग करने के लिए कर्मचारी को दंडित किया गया"



Rajasthan Siksha vibhag ने ध्यान भटकाने वाली चीज़ों पर नकेल कसी, काम के घंटों का दुरुपयोग करने के लिए कर्मचारी को नोटिस भेजा


कार्यस्थल पर उत्पादकता और अनुशासन बनाए रखने के लिए, [कंपनी का नाम] ने काम के घंटों के दौरान व्यक्तिगत उपकरणों का उपयोग करने वाले कर्मचारियों के खिलाफ़ कड़ा रुख अपनाया है। विशेष रूप से, हाल ही में एक घटना के कारण एक कर्मचारी को कक्षा सत्रों के दौरान व्हाट्सएप का उपयोग करके कंपनी के समय का दुरुपयोग करने के लिए नोटिस जारी किया गया है।


सूत्रों के अनुसार, कर्मचारी, Class के दौरान व्हाट्सएप तक पहुँचने के लिए अपने निजी फोन का उपयोग करते हुए देखा गया था। इस घटना ने कर्मचारी की अपनी नौकरी की ज़िम्मेदारियों पर ध्यान केंद्रित करने और कंपनी की नीतियों का पालन करने की क्षमता के बारे में चिंताएँ पैदा की हैं।



कंपनी की नीति काम के घंटों के दौरान व्यक्तिगत उपकरणों के उपयोग को प्रतिबंधित करती है, जिसमें प्रशिक्षण सत्र और बैठकें भी शामिल हैं। नीति का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि कर्मचारी अपने कार्यों पर ध्यान केंद्रित रखें और ऐसे विकर्षणों से बचें जो उनके प्रदर्शन को प्रभावित कर सकते हैं।


संबंधित कर्मचारी को प्रबंधन से एक लिखित नोटिस मिला, जिसमें उसे बार-बार उल्लंघन करने के परिणामों के बारे में चेतावनी दी गई थी। नोटिस में कहा गया है कि भविष्य में इस तरह के व्यवहार के परिणामस्वरूप अधिक गंभीर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी, जिसमें नौकरी से बर्खास्तगी भी शामिल है।


"हम समझते हैं कि हमारे कर्मचारियों को ब्रेक और रिचार्ज करने के लिए समय की आवश्यकता होती है, लेकिन काम के घंटों के दौरान व्हाट्सएप का उपयोग करना कंपनी के समय का स्वीकार्य उपयोग नहीं है," [प्रबंधक का नाम] ने कहा। "हम उम्मीद करते हैं कि सभी कर्मचारी इस नीति का सम्मान करेंगे और इसका पालन करेंगे।"


यह घटना सभी कर्मचारियों को एक पेशेवर कार्य वातावरण बनाए रखने और कंपनी की नीतियों का पालन करने के महत्व की याद दिलाती है। कंपनी कर्मचारी के व्यवहार की निगरानी करना जारी रखेगी और उत्पादक और विकर्षण-मुक्त कार्य वातावरण सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक होने पर उचित कार्रवाई करेगी।


कार्यालय मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी, धमोतर, जिला - प्रतापगढ (राज.)

क्रमांक- सीबीईओ / धमोतर / संस्था / 2024-25 /


श्री नटवर लाल

अध्यापक

रा.उ.मा.वि. पाल

Mail: cbeodhamotar@gmail.com

दिनांक:- यथा हस्ताक्षर


कारण बताओ नोटिस


शिक्षा विभाग द्वारा विद्यालय समय में विद्यालय में अध्यापको हेतु निजी कार्य हेतु मोबाईल के उपयोग पर पूर्णतः पाबंधी लगा रखी हैं एवं स्थानीय कार्यालय द्वारा भी विद्यालय समय में मोबाईल के निजी कार्य हेतु उपयोग नहीं करने हेतु निर्देशित किया गया है, इसके बावजूद आप आज दिनांक – 06.07.2024 को 08:40AM पर निजी कार्य हेतु "व्हाट्सअप चला रहे है जबकि इस समय आपको कक्षा में उपस्थित होकर शिक्षण कार्य करवाना था तथा इस समय आप द्वारा अधोहस्ताक्षरकर्ता के मो.न. को आपके ट्रेक्टर हकाई के किसी ग्राहक का नंबर समझ कर पैसे मांगने का मैसेज किया जा रहा है, आप द्वारा विद्यालय समय में मोबाईल प्रयोग निजी कार्य हेतु किया जा रहा है जो की आपके कर्तव्य के प्रति उदासीनता एवं विभागीय आदेशो की अवहेलना को दर्शाता है इस सम्बन्ध में कोई उचित कारण रखते हैं तो अपना जवाब लिखित में स्वयं उपस्थित होकर तीन कार्य दिवस में अधोहस्ताक्षरकर्ता को प्रस्तुत करें अन्यथा आपके विरुद्द अनुशासनात्मक कार्यवाही हेतु प्रकरण उच्च अधिकारीयों को प्रेषित कर दिया जाएगा ।



(राजेन्द्र कुमार मीणा )

मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी

धमोत्तर, प्रतापगढ़



प्रतिलिपि:-

1. प्रधानाचार्य रा.उ.मा.वि. पाल को देकर लेख है की आपके कार्मिक विद्यालय समय में निजी कार्य हेतु मबाईल का उपयोग कर रहे है आप आपके विद्यालय एवं PEEO क्षेत्र के विद्यालयों में निजी कार्य हेतु मो बाईल पाबंधी को पूर्णतः सुनिश्चित करें ।

2. रक्षित पत्रावली मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी धमोत्तर, प्रतापगढ़



हाल ही में हुई घटना कार्यस्थल पर ध्यान और अनुशासन बनाए रखने के महत्व को उजागर करती है। कंपनियों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उनके कर्मचारी काम के घंटों के दौरान व्यक्तिगत डिवाइस के उपयोग से संबंधित नीतियों के बारे में जानते हों और उनका पालन करें। जो कर्मचारी इसका पालन करने में विफल रहते हैं, उन्हें नौकरी से निकाले जाने सहित अनुशासनात्मक कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता है।

Comments
Couldn’t Load Comments
It looks like there was a technical problem. Try reconnecting or refreshing the page.
bottom of page